Author(s): आभा श्रीवास्तव

Email(s): dr.abha.knk@gmail.com

DOI: Not Available

Address: आभा श्रीवास्तव
अतिथि सहायक प्राध्यापक
हिन्दीद्ध शाण्भानुप्रताप देव उपाधि महा विद्यालय
कांकेर छत्तीसगढ़
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 4,      Issue - 2,     Year - 2016


ABSTRACT:
गीतकार के गीतों में सर्वप्रथम प्रत्यक्ष प्रभाव उसके अपने जीवन का होता है, तत्पश्चात् व्यक्ति विशेष से सम्पर्क व संबंधों का प्रभाव परिलक्षित होता है। गीत की इसी आत्मपरकता व व्यक्तिपरकता को हम इस तरह आत्मसात् कर अभिव्यक्त कर सकते हैं कि साहित्य मूलतः सर्जन है - निर्माण नहीं।


Cite this article:
आभा श्रीवास्तव. छत्तीसगढ़ के गीतकार.आत्मपरक गीत. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 4(2): April - June, 2016; Page 48-55.


Recomonded Articles:

Author(s): आभा श्रीवास्तव

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags