Author(s): सुबोध कुमार शुक्ला

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: डाॅ. सुबोध कुमार शुक्ला
अतिथि विद्वान (वाणिज्य) शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय अमरपाटन जिला सतना (म.प्र.).
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 3,     Year - 2020


ABSTRACT:
नई आर्थिक नीति का अर्थ केवल विदेशी व्यापार या विदेशी पूॅजी निवेश तक ही सीमित नहीं है। अर्थव्यवस्था के सभी अंगों में नियंत्रणों के स्थान पर उदारीकरण अपनाया जाये। नई आर्थिक नीति के प्रमुख अंग है-नई औद्योगिक नीति, राजकोषीय नीति, नई मौद्रिक नीति, विदेशी नीति, विनियम नियंत्रण नीति, नई व्यापार नीति आदि। वैश्वीकरण का सामान्य रूप से आशय पूरे विश्व का एक सत्ता के रूप में मानने से है, इसमें सभी आर्थिक बाधाओं को हटा दिया जाता है, जिससे कि बाजार शक्तियाॅ स्वतंत्र रूप से अपनी भूमिका अदा कर सकें। वास्तव में वैश्वीकरण व्यापारिक क्रियाकलापों का अन्तर्राष्ट्रीयकरण है जिसमें पूरे विश्व को एक ही क्षेत्र के रूप में देखा जाता है। इस प्रकार यह व्यापार को न्यूनतम लागत ळें इस प्रकार नवीन आर्थिक नीति देश में आर्थिक विकास में व्यापक प्रभाव डाली है। जैसे- प्रतिकूल वातावरण, सीमित वित्तीय साधन, राजनीतिक एवं प्रशासनिक समस्या, धीमी गति, अनुचित क्षेत्र का प्रवेश।


Cite this article:
सुबोध कुमार शुक्ला. वैश्वीकरण एवं औद्योगिक विकास का भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2020; 8(3):167-172.

Cite(Electronic):
सुबोध कुमार शुक्ला. वैश्वीकरण एवं औद्योगिक विकास का भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2020; 8(3):167-172.   Available on: https://ijrrssonline.in/AbstractView.aspx?PID=2020-8-3-4


संदर्भ ग्रन्थ सूची:
1.    अग्रवाल प्रो0 एम0 डी0, भारत में वित्तीय प्रबंध पंचशील प्रकाशन जयपुर 2013 पृ.5 से 39
2.    माहेश्वरी डाॅ0 पी0 डी0 गुप्ता डा0 एस0 सी0 गुप्ता, मौद्रिक अर्थशास्त्र एवं बैंकिग कैलाश पुस्तक सदन भोपाल पृ. 252 से 255
3.    मिश्रा एवं डाॅ0 पन्त, व्यष्टि अर्थशास्त्र साहित्य भवन पब्लिकेशन
4.    नागर डाॅ0 विष्णु दत्त, डाॅ0 मेहता वल्लभ, भारतीय अर्थव्यवस्था मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी पृ.61 सें 75
5.    शर्मा वीरेन्द प्रकाश, प्रकाश रिसर्च मेथोलाॅजी पंचशील प्रकाशन जयपुर 2012 पृ. 6 से 35
6.    सिन्हा डाॅ0 वी.सी. मुद्रा बैंकिग विदेशी विनिमय तथा अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार लोक भारतीय प्रकाशन सन् 1980 पृ. 16 से 18
7.    चतुर्भुज ममोरिया एस.बी.पी.डी. आगरा, भारत का औद्योगिक विकास
8.    भारतीय अर्थव्यवस्था, हिमालय पब्लिकेशन मुम्बई
9.    डाॅ. एस.सी. जैन, व्यावसायिक वातावरण कैलाश पुस्तक, सदन, भोपाल

Recomonded Articles:

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags