Author(s): ममता सिंह

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: ममता सिंह हिन्दी विभागाध्यक्ष, स्वामी विवेकानंद वि.वि., सिरौंजा, सागर (म0प्र0) पिन 470228

Published In:   Volume - 3,      Issue - 1,     Year - 2015


ABSTRACT:
साकते की कथा का मूलाधार परम्परागत राम-कथा ही है, किन्तु गुप्त जी ने उसमें पर्याप्त परिवर्तन कर दिये हैं । अपने युग की विचारधाराओं की उन पर काफी प्रभाव पड़ा है और इनके आधार पर ही उन्होंने अपने काव्य का रूप संवारा है । इस कारण उनके काव्य में पर्याप्त आधुनिकता निहित है । श्री त्रिलोचन पाण्डेय ने ‘‘साकेत’’ की आधुनिकता के तत्वों का विभाजन इस प्रकार किया है:- 1. बुद्धिवाद का प्रभाव, 2. पात्रों का नवीन रूप, 3. मनोवैज्ञानिकता, 4. पीठिका देना, 5. सामाजिक प्रभाव, 6. राष्ट्रीयता, 7. नारी-संबंधी दृष्टिकोण, 8. मर्यादित श्रृंगार वर्णन, 10. शैलीगत नवीनता एवं अन्य प्रसंग।


Cite this article:
ममता सिंह. रामकथा का आधुनिकतम काव्य है - साकेत. Int. J. Rev. & Res. Social Sci. 3(1): Jan. – Mar. 2015; Page 27-30.


Recomonded Articles:

Author(s): ममता सिंह

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags