Author(s): मणि मेखला शुक्ला

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: डाॅ. मणि मेखला शुक्ला सहायक प्राध्यापक राजनीतिशास्त्र, कल्याण स्नातकोत्तर महाविद्यालय, भिलाईनगर, जिला दुर्ग छ.ग.

Published In:   Volume - 4,      Issue - 3,     Year - 2016


ABSTRACT:
अंर्तराष्ट्रीय राजनीति मे गुट निरपेक्ष नीति का एक महत्वपुर्ण स्थान है । द्वितीय विश्वयुद्व के पश्चात् यूरोप के सभी राष्ट्रो मे अपनी स्वतंत्रता को बनाये रखने की समस्या थी । तब दो महाशक्तियाॅ विश्व रंग मंच पर उभर कर सामने आई । ये महाशक्तियाॅ थी संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत समाजवादी गणतंत्र संघ इसी समय अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका के अनेक देश औपनिवेशक दासता से स्वंतंत्र हो रहे थे । इन नवोदित राष्ट्रो ने स्वंय को महाशक्तियों के गुटो मे शामिल रहने की अपेक्षा गुट निरपेक्ष नीति को अपनाना उचित समझा । गुट निरपेक्षता की नीति का सर्वप्रथम उल्लेख सिंतबर 1947 मे वायसराय की कार्यकारी परिषद कि उपाध्यक्ष जवाहर लाल नेहरू ने अपने प्रथम भाषण मे किया था । उन्होने कहा था कि “ वैदेशिक मामलो मे जहाॅ तक संभव होगा । हमारी प्रस्तावित नीति दुनिया के किसी भी गुट से दूर रहने की होगी । विश्व राजनीति मे अमेरिका एंव सोवियत संघ एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोले हुये है । और हम इनके विवाद मे नही पडना चाहते । “


Cite this article:
मणि मेखला शुक्ला. गुट निरपेक्षता की नीति की सार्थकता भारत के संबंध में. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 4(3): July-Sept., 2016; Page 189-192.


Recomonded Articles:

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags