Author(s): शिवेन्द्र बहादुर, सरला शर्मा

Email(s): shivendrakorar@gmail.com

DOI: Not Available

Address: शिवेन्द्र बहादुर1, डाॅ. सरला शर्मा2
1शोध छात्र, भूगोल अध्ययनशाला, पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर (छ.ग.).
2प्रोफेसर, भूगोल अध्ययनशाला, पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर (छ.ग.).
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 1,     Year - 2020


ABSTRACT:
प्रस्तुत अध्ययन का मुख्य उद्देश्य, छत्तीसगढ़ राज्य के दुर्ग-भिलाई नगरों में कार्यशील महिलाओं के पारिवारिक असंगतियों के कारण एवं प्रभाव का विश्लेषण करना है। यह अध्ययन पूर्णतः प्राथमिक आँकडों पर आधारित है। जुड़वा नगरों में कार्यषील महिलाओं की सामाजिक तथा पारिवारिक असंगतियों एवं समस्याओं की जानकारी प्राप्त करने हेतु कार्यिक प्रतिरूप को दृष्टिगत रखते हुए उद्देष्य पूर्ण दैव निदर्शन विधि के आधार पर विभिन्न कार्यों में संलग्न कार्यषील महिलाओं तथा उनके परिवारों से सम्बंधित जानकारियाँ साक्षात्कार एवं अनुसूची के माध्यम से प्राप्त की गई। इस प्रकार दोनांे नगरों से कुल 1202 कार्यषील महिलाओं से जानकारी प्राप्त की गई। जतराना (2001) एवं कान्स (1972) द्वारा प्रयुक्त बहुचर माॅडल (डनसजपअंतपंजम डवकमस) के अन्तर्गत बहुचर गुणनपूर्ण सहसम्बध गुणांक का प्रयोग कर कार्यशील महिलाओं के पारिवारिक असंगतियों पर पति-पत्नी, माता-पिता/सास-ससुर तथा अन्य सदस्यों के सहयोगात्मक एवं असहयोगात्मक सम्बंधो का विश्लेषण किया गया।


Cite this article:
शिवेन्द्र बहादुर, सरला शर्मा. दुर्ग - भिलाई नगरों के कार्यशील महिलाओं की पारिवारिक असंगतियों के कारण एवं प्रभाव: एक भौगोलिक अध्ययन. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2020; 8(1):74-82.


संदर्भ-सूची:
1.  Hate, C.A. (1969): Changing status of women careers versus Jobs, Allied Publishers, Bombay, PP. 86-90.
2    Kapur, P (1970): Marriage and the working women in India, Vikas publishing, New Delhi, PP. 42-49.
3    Pressor, Harrict B. (1986):   "Shift Work  Among American Women and Childcare", Jounrnal of Marriage and The Family, Vol. 48,PP. 551-562.
4    कटारा, अम्बालाल (2019)ः ’’कामकाजी महिलाओं की भूमिका संघर्ष के बीच सशक्तिकरण अधिकारः राजस्थान का एक अध्ययन’’, शोध शौर्यम इंटरनेषनल साइंटिफिक रिफर्ड़ रिसर्च जर्नल, अंक 2, पृ. 42, प्ैैछ रू 2581. 6306ण्
5    कुर्रे, अनिता (2018)ः ’’भारत में महिला उद्यमियों की दोहरी भूमिका’’, इंटरनेषनल जर्नल आॅफ एड़वांस रिसर्च, पृ. 31-32, प्ैैछ रू 2455. 4030ण्
6    गुप्ता, सुभाषचंद्र (2004)ः कार्यशील महिलाएँ एवं भारतीय समाज, अर्जुन पब्लिशिंग हाऊस नई दिल्ली, पृ.-84.
7    षर्मा, दिव्या एवं अरुन कुमार दुबे, (2011)ः ’’मध्यम श्रेणी तथा उच्च श्रेणी की कार्यशील महिलाओं तथा गृहिणियों के बच्चों के पोषण स्तर का तुलनात्मक अध्ययन’’, इन्टरनेशनल रिसर्च जर्नल ऑफ मैनेजमेन्ट सोषियोलाॅजी एण्ड ह्युमनिस्टिक, अंक 3, पृ. 37, प्ैैछरू 2319 दृ 9202ण्
8    प्रताप नवीन, सिंह, (2010)ः ’’महिला कार्यशीलता का समाजशास्त्रीय परिपेक्ष्य: एक समाजशास्त्रीय अध्ययन’’ (रूहेलखण्ड मण्डल के विशेष संदर्भ में), इन्टरनेशनल रिसर्च जर्नल ऑफ मैनेजमेन्ट सोषियोलाॅजी एण्ड ह्युमनिस्टिक, अंक 1, पृ. 91-93, प्ैैछ रू 2277.9809ण्

Recomonded Articles:

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags