Author(s): बालेन्द्रमणि त्रिपाठी, योगिता सेन

Email(s): Ysen78462@gmail.com

DOI: 10.52711/2454-2687.2023.00032   

Address: डॉ. बालेन्द्रमणि त्रिपाठी1, योगिता सेन2
1शोध निर्देशक, भूगोल विभाग, देव संस्कृति विश्वविद्यालय, ग्राम-सांकरा, कुम्हारी, दुर्ग (छ.ग.)
2शोधार्थी, भूगोल विभाग, देव संस्कृति विश्वविद्यालय, ग्राम-सांकरा, कुम्हारी, दुर्ग (छ.ग.)
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 11,      Issue - 3,     Year - 2023


ABSTRACT:
प्रस्तुत शोधसार मे धान की कृषि मे जैवविविधता कृषि उत्पादकता का अध्ययन किया गया है जिसमे धान की कृषि के उत्पादन क्षमता को ज्ञात करने के लिए दुर्ग जिला, धमधा, एवं पाटन के ग्रामीण क्षेत्रो के छोटे बड़े 300 किसानो से साक्षात्कार किया गया है। जिससे हमे ज्ञात हुआ कि कृषि भूमि सम्बन्धी क्षेत्र कैसे होते है धान की पुरानी एवं नविन प्रजातियो के बारे मे ज्ञात हुआ वहा की मिट्टी, उच्चावच सिंचाई के साधन, और धान की कृषि मे उपयोग आने वाले उर्वरक, खाद सामग्री की कितनी मात्रा मे उपयोग होता है। कृषि मे मशीनीकरण सम्बन्धी आंकड़े के बारे मे जानने को मिला।


Cite this article:
बालेन्द्रमणि त्रिपाठी, योगिता सेन. धान की कृषि मे जैव विविधता एवं कृषि उत्पादकता का अध्ययन (दुर्ग जिले के विशेष सन्दर्भ मे). International Journal of Reviews and Research in Social Sciences. 2023; 11(3):194-9. doi: 10.52711/2454-2687.2023.00032

Cite(Electronic):
बालेन्द्रमणि त्रिपाठी, योगिता सेन. धान की कृषि मे जैव विविधता एवं कृषि उत्पादकता का अध्ययन (दुर्ग जिले के विशेष सन्दर्भ मे). International Journal of Reviews and Research in Social Sciences. 2023; 11(3):194-9. doi: 10.52711/2454-2687.2023.00032   Available on: https://ijrrssonline.in/AbstractView.aspx?PID=2023-11-3-10


सन्दर्भ ग्रन्थ
1-  शर्मा जान्हवी, शिवम चावल सभ्यता और इसकी आधुनिक उपलब्धियां, भारतीय राइस 2004, 3, 3-5.
2-   शर्मा संतोष, जी. रॉव चम्बल नदी डेल्टा में नवपाषाण युग से प्राचीन धान की मिट्टी, 2006, 93, 232 दृ236।
3   राज्बोइर चन्दन, डा. राजन तटीय दलदल की आग और बाढ़ प्रबंधन ने पूर्वी भारत में पहली चावल धान की खेती प्रकृति को सक्षम किया। 2007, 449, 459-462।
4   मिश्रा विवेक धान के खेतः भारतीय सभ्यता को ले जाने वाली कृत्रिम आर्द्रभूमि के लिए। गुंजन। बीइंग्स 2006, 2,10दृ21।
5   सर्वा दीक्षा, राकेश भारतीय कृषि वार्षिकी संपादकीय समिति। चीन कृषि वार्षिकी 2012; चीन कृषि प्रेसः भारत, 2013
6   पाल प्रियंका, वर्मा तामेश जैव विविधता संरक्षण और इसकी अनुसंधान प्रगति, जे, अप्पल वातावरण 1998, 4, 95दृ99
7   लॉकवुड, जे.ए. कृषि और जैव विविधताः इस दुनिया में हमारी जगह ढूँढना, 1999, 16, 365दृ379.

Recomonded Articles:

Author(s): रमेश प्रसाद द्विवेदी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): कुबेर सिंह गुरूपंच

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): रमेश प्रसाद द्विवेदी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): धर्मेन्द्र कुमार वर्मा

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): वृन्दा सेनगुप्ता

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): विवेक कुमार पटेल, अंशुल गुप्ता

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): गायत्री मिश्रा, बेबी चर्मकार

DOI:         Access: Closed Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags