Author(s): सुबोध कुमार शुक्ला

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: सुबोध कुमार शुक्ला
अतिथि विद्वान (वाणिज्य), शासकीय महाविद्यालय, अमरपाटन, जिला सतना (म.प्र.).
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 1,     Year - 2020


ABSTRACT:
डिजिटल इंडिया कार्यक्रम भारत सरकार द्वारा आरंभ किया हुआ एक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है। जिसका मूल उद्देश्य देश के हर विभाग व रिकार्ड को एक ही कड़ी से जोड़ना है और वह कड़ी देश की इलेक्ट्राॅनिक डाटा सिस्टम की कड़ी जो की काम की गति को बढ़ाने में मददगार है। डिजिटल इंडिया वह कार्यक्रम है जो कि देश को एक डिजिटल सशक्ति सोसाइटी में तब्दील कर सके और भारत को एक नया रूप दे सकें। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम से देश की हर जानकारी और रिकार्ड को स्वाच्छता से इलेक्ट्राॅनिक मोड़ में रखा जा रहा है। जो की आगे काम में सरलता के साथ-साथ तेज रफ्तार भी लाएगा। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की शुरूआत दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में 1 जुलाई 2015 को देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के द्वारा किया गया। आज के इस व्यस्त जीवन में सब कुछ बदलता है। हमारे खाने-पीने से लेकर हमारे काम करने के अंदाज भी समय के साथ-साथ बदलते हैं। ऐसा ही कुछ बदलाव हमारे अपने देश में भी पाया है। डिजिटल इंडिया देश में एक क्रांति लेकर आया है। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम करीब 18 लाख नई नौकरियों को जन्म देगा। इससे देश में पनपती बेरोजगारी कुछ हद तक घटेगी। ये कार्यक्रम अपने साथ-साथ काफी और छोटे-छोटे कार्यक्रमों को साथ लाया है। जिससे की देश की नई क्षेत्र में सुधार की उम्मीद है वह दिन दूर नहीं जब डिजिटल इंडिया के कारण पूरे विश्व में भारत की एक अलग पहचान होगी।


Cite this article:
सुबोध कुमार शुक्ला. डिजिटल इंडिया कार्यक्रम का सामान्य व्यक्तियों पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन (रीवा नगर के विशेष संदर्भ में). Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2020; 8(1):49-55.


संदर्भ ग्रन्थ सूची
1.    प्रभु सीएसआर (2004), ‘ई-गवर्नेंस, अवधारणा और केस स्टडीज’, प्रेंटिस हॉल ऑफ इंडिया, नई दिल्ली, भारत
2.    गुप्ता विवेक (2002), ‘ई-गवर्नेंस- द न्यू रेवोल्यूशन’, द आईसीएफएआई यूनिवर्सिटी प्रेस, हैदराबाद, भारत
3.    विवेक भारद्वाज (2006), ‘सूचना का एक अध्ययन - भारतीय स्कूलों में संचार प्रौद्योगिकी उपयोग’, फ्रैंक ब्रदर्स एंड कं प्रकाशन लिमिटेड, नई दिल्ली, भारत
4.    राव वीएम (2007), ‘ई-गवर्नेंस’, एबीडी पब्लिशर्स, जयपुर, राजस्थान, भारत
5.    मिश्रा एस एस और मुखर्जी, (2007), ‘विकास में ई-गवर्नेंस राष्ट्र’, आईसीएफएआई यूनिवर्सिटी प्रेस, हैदराबाद, भारत
6.    भटनागर एस एण्ड श्वेयर आर. (2000), ‘सूचना और ग्रामीण विकास में संचार प्रौद्योगिकी, केस स्टडीज भारत से’, ऋषि प्रकाशन भारत, नई दिल्ली
7.    जेफरी रॉय, ओटावा विश्वविद्यालय, (2006) ‘ई-सरकार इन कनाडा’, ओटावा प्रेस विश्वविद्यालय, ओटावा
8.    अब्रामसन एएम, मीन्स ईजी (2001), ‘ई-गवर्नमेंट’, प्राइस सरकार के व्यापार के लिए वाटरहाउस कूपर्स एंडोमेंट, रोमन एंड लिटिलफील्ड पब्लिशियर इंक
9.    फ्रागा ई (2002), ‘ई-गवर्नमेंट में रुझान, कैसे योजना, डिजाइन, सुरक्षित और माप ई-सरकार’, सरकारी प्रबंधन सूचना सेवाएं, सांता फे, न्यू मैक्सिको
10.    पनी निरंजन, मिश्रा, संताप एस, साहू बिजया (2004), ‘आधुनिक शासन प्रणालीरू सुशासन बनाम ई-गवर्नेंस’, अनमोल प्रकाशन, नई दिल्ली, भारत

Recomonded Articles:

Author(s): मुहम्मद शमषाद

DOI:         Access: Closed Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags