Author(s): कमल नारायण गजपाल, रंजन कुमार चैबे

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: डाॅ. कमल नारायण गजपाल1, रंजन कुमार चैबे2
1विभागाध्यक्ष, प्रगति महाविद्यालय, रायपुर.
2एम. एड. छात्र, प्रगति महाविद्यालय, रायपुर.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 8,      Issue - 4,     Year - 2020


ABSTRACT:
जीवन में सफलता का आधार वास्तव में शिक्षा में निहित है। समय के साथ-साथ शिक्षा के उद्देश्य भी बदलते रहते हैं। स्वतंत्रयोत्त्र भारत में शिक्षा को सामाजिकरण का समस्त साधन मानते हुए इसके द्वारा वैयक्तिकता व नागरिकता के गुणों को विकसित करने का प्रयत्न किया गया।आज कल हम शिक्षा को व्यवसायोन्मुख करने का प्रयत्न कर रहे है। शिक्षा द्वारा विकल्पों में से उत्तम को चुनने की कुशलता विकसित होनी चाहिए। आज हम पूर्णतः स्वतंत्र रहकर अपने हित को सर्वोपरि रखकर प्रायः विकल्प चुना करते है। परन्तु वास्तव में होना नहीं चाहिए। स्वतंत्रता का आशय यह नहीं है कि चुनाव के समय हम देश हित या सामाजिक हित पर ध्यान नहीं दे। पूरी शिक्षा वास्तव में मूल्य निर्धारण की ही प्रक्रिया है। भारतीय नागरिकों में शिक्षा द्वारा विकसित किये जाने वाले मूल्यों के बारे में हमारे शिक्षाविदों, मनोवैज्ञानिकों, शिक्षकों व अभिभावकों में आज तक मतैक्य नहीं है। जीवन एक वास्तविक सत्य है जिसमें शिक्षक शब्द की शिक्षा व्यवस्था का सूत्रधार है। किसी भी देश का परिचय वहाँ की संस्कृति सभ्यता एवं नागरिकों के निर्माण में प्रमुख भूमिका शिक्षक की ही होती है। शिक्षक की महत्ता पड़ प्रकाश डालने से पता चलता है।शिक्षा देश की बुनियादी है और शिक्षक राष्ट्र निर्माता। शिक्षक वह महान विभूति है, जो ज्योति पुुंज है, जो स्वयं जलकर शिक्षा को आध्यात्मिक का अधिष्ठान देता हैं शिक्षक हृदय परिवर्तन करते है। दिशा परिवर्तन के लिए दिशा खोजते हैं।


Cite this article:
कमल नारायण गजपाल, रंजन कुमार चैबे. बी.एड. के प्रशिक्षणार्थियों के मानवाधिकार के प्रति जागरूकता पर एक अध्ययन. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2020; 8(4):242-250.


संदर्भ ग्रंथ सूची:-
1.    शर्मा डाॅ. मंजू (2011) शिक्षा के दार्शनिक आधार, एम. एस. यूनिर्वसीटी बुक हाउस पाइवेट लिमिटेड, पटना, पृष्ठ संख्या 4-33.
2.    सिंह डाॅ. कृष्णबीर (2011) शैक्षिक अनुसंधान की प्रविधियाँ, एम. एस. यूनिर्वसीटी बुक हाउस पाइवेट लिमिटेड, पटना, पृष्ठ संख्या 1-87.
3.    कुमार मिश्रा डाॅ. महेन्द्र (2011) शिक्षा के मनोवैज्ञानिक आधार, एम. एस. यूनिर्वसीटी बुक हाउस पाइवेट लिमिटेड, पटना, पृष्ठ संख्या 10-30.
4.    गैरिट एच. ई. (2006) स्टेटिक्स इन साइकोलाॅजी एण्ड एजुकेशन, सुरजीत पब्लिकेशन, नई दिल्ली, पृष्ठ संख्या 27-38.
5.    सिंह अरूण कुमार, उच्चतर सामान्य मनोविज्ञान, भारती भवन प्रकाशन, पटना.
6.    शर्मा, आर. ए. (2007), शिक्षा अनुसंधान, आर लाल बुक डिपो, मेरठ, पृष्ठ संख्या 29-53।
7.    राय पारसनाथ (2007), अनुसंधान परिचय, लक्ष्मी नारायण अग्रवाल, आगरा।
8.    डाॅ. सक्सेना स्वरूप (2006), शिक्षा के समाज शास्त्रीय आधार, आर लाल बुक डिपो, मेरठ।
9.    पाठक पी. डी. (2005), शिक्षा मनोविज्ञान, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा।
10.    सिंह डाॅ. कृष्णबीर (2011), शिक्षा के सिद्धांत, एम. एस. यूनिर्वसीटी बुक हाउस पाइवेट लिमिटेड, पटना, पृष्ठ संख्या 2-23.
11.    त्यागी एवं पाठक (2006), शिक्षा के सामान्य सिद्धान्त, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा।
12.    पाण्डेय, रामशकल, शिक्षा दर्शन, विनोद पुस्तक मंदिर, आगरा।
13.    भार्गव महेश, आधुनिक मनोविज्ञान परीक्षण एवं मापन, हर प्रसाद मार्ग शैक्षिक प्रकाशन, आगरा।
14.    भास्कराचार्य, डाॅ. बाॅय (2003), ‘‘शिक्षा के अधिकार एवं मानवाधिकार शिक्षा’’, एब्युट्रेक, वाल्युम 3 नं. 1 सितम्बर पृष्ठ क्रमांक 29-31।
15.    ए. सुहाशिनी (2003), मानवाधिकार एवम् कर्तव्य शिक्षा एब्युट्रेक, वाल्यूम 3 नं. 3 नवम्बर, पृष्ठ क्रमांक 31-33।
16.    नींड डाॅ. मिलानी (2006), ‘‘छात्रों के साथ विशिष्ट शिक्षा की आवश्यकता, विभिन्न विषयों में शिक्षा शास्त्र के प्रयोग’’ जर्नल आॅफ रिसर्च इन स्पेशल, एजुकेशन नीड्स, वाल्युम-6, नं. 3, पृष्ठ नं. 116-124, नवम्बर 2006।

Recomonded Articles:

Author(s): खोमन लाल साहू

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): हितेष कुमार1, हर्षित शर्मा

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): हरिश कुमार साह, वेदवती मण्डावी

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): अहिल्या तिवारी

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): हेमन्त कुमार खटकर, रेखा नरेन्द्र जिभकाटे ;नवखरेद्ध, कु. समीना कुरैषी

DOI:         Access: Closed Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags