Author(s): अनूप यादव, प्रमोद कुमार तिवारी

Email(s): anoopyadav9190@gmail.com , pktiwari61@gmail.com

DOI: Not Available

Address: अनूप यादव1, डाॅ. प्रमोद कुमार तिवारी2
1जे.आर.एफ. शोध छात्र, भूगोल विभाग, नागरिक पी.जी., काॅलेज, जंघई, जौनपुर, उ0प्र0.
2एसो.प्रो. एवं विभागाध्यक्ष, भूगोल विभाग, नागरिक पी.जी., काॅलेज, जंघई, जौनपुर, उ0प्र0.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 10,      Issue - 3,     Year - 2022


ABSTRACT:
भूमि सम्पूर्ण जीव जगत के जीवन का आधार एवं भौतिक संसाधनों का आधार है। प्राकृतिक संसाधनों में भूमि अत्यन्त महत्वपूर्ण हैं। प्राथमिक आवष्यकताओं की पूर्ति प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इसी संसाधन से होती हैं। मनुष्य की प्रारम्भिक अवस्था अथवा खाद्य संग्राहक व्यवस्था के बाद मानव सभ्यता के विकास के प्रथम सोपान से लेकर वर्तमान तक अनेकानेक वैज्ञानिक उपलब्धियों एवं तकनीक सुविधाओं से सम्पन्न मानव सभ्यता के मूल में भी भूमि का महत्वपूर्ण स्थान रहा है। किसी स्थान विषेष की भूमि उपयोग की अवस्थायें उस क्षेत्र विषेष की तत्कालिक, सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक व्यवस्था को द्योतक है। (पाण्डेय एस.के. पृ. 59) भूमि उपयोग एक गत्यामक पहलू है, जो भौतिक दषाओं में परिवार तथा मानव के सामाजिक-आर्थिक विकास, वैज्ञानिक एवं तकनीकी प्रगति के अनुरूप परिवर्तित, परिष्कृत एवं वारिमार्जित होता रहा है। यही कारण हंै कि किसी भी क्षेत्र का भूमि उपयोग उस क्षेत्र में निवास करने वाले मानव की बौद्धिक क्षमता तथा आर्थिक-सामाजिक एवं राजनीतिक विकास स्तर का सूचक होते हैं प्रस्तुत शोध पत्र में भूमि के उपयोग एवं दूरप्रयोग को दर्षाया गया है। भूमि संसाधन के संतुलित विकास को ध्यान में रखकर वर्तमान एवं भविष्य के लिए भावी रणनीति भी बनाया गया हैं।


Cite this article:
अनूप यादव, प्रमोद कुमार तिवारी. खजनी ब्लाॅक: जनपद गोरखपुर (उ0प्र0) में भूमि उपयोग का वर्तमान प्रतिरूप. International Journal of Reviews and Research in Social Sciences. 2022; 10(3):101-6.

Cite(Electronic):
अनूप यादव, प्रमोद कुमार तिवारी. खजनी ब्लाॅक: जनपद गोरखपुर (उ0प्र0) में भूमि उपयोग का वर्तमान प्रतिरूप. International Journal of Reviews and Research in Social Sciences. 2022; 10(3):101-6.   Available on: https://ijrrssonline.in/AbstractView.aspx?PID=2022-10-3-3


संदर्भ ग्रन्थ सूची
1.       चैहान पी0 आर0-भारत का वृहद भूगोल बसुन्दरा प्रकाषन, गोरखपुर।
2.       Brlowe.R & Jahnson. V.W. (1954) : Land problems & Policies, New Yourk, P. 99.
3.       Dixit. R.K (1982) : “Gemerol Introderaction about.
4.       Uttar Pradesh- Geographical Location and Phisiographic (Natuorol) Divisions”, Pragati Manjoosa, Allahabad, P.So.
5.       Pandey R. (1981) Land Utilization in Basgaon to Tehsil Gorakhpur District,
6.       U.P. Department of geography, D.D.U. Gorakhpur University, Gorakhpur.
7.       यादव विरेन्द्र प्रताप एवं गोस्वामी, के.पी. (2011) ’’जनसंख्या वृद्धि एवं भूमि उपयोग परिवर्तन-करंजाकला, जनपद जौनपुर’’ द नार्थ इण्डियन ज्योग्ताकिकल जर्नल अंक 41, सं. 1 पृष्ठ 17-22।
8.       राव बी0 पी0 एवं त्यागी नूतन (2014): भारत की भौगोलिक समीक्षा, बसुन्धरा प्रकाषन, गोरखपुर।

Recomonded Articles:

Author(s): रमेश प्रसाद द्विवेदी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): केदार कुमार, अष्विनी महाजन

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): धर्मेन्द्र कुमार वर्मा

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): बी.एन. पटेल, उमेश कुमार मिश्र

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): रोहित चैरसिया, महीप चैरसिया

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): श्याम किषोर वर्मा प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): के. एस. गुरूपंच, नागेश्वर प्रसाद साहू

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): नीलाम्बर पटेल, डी. एन. वर्मा

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): अनूप यादव, प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Closed Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags