Author(s): हिमांशु मिश्रा, इन्दू मिश्रा

Email(s): himanshumishra392@gmail.com

DOI: 10.52711/2454-2687.2023.00044   

Address: हिमांशु मिश्रा1, प्रो. (डॉ.) इन्दू मिश्रा2
1शोध छात्र (जे.आर.एफ.) भूगोल विभाग, वी.एस.एस.डी. कॉलेज, कानपुर (उ.प्र.)
2प्रोफेसर, भूगोल विभाग, वी.एस.एस.डी. कॉलेज, कानपुर (उ.प्र.)
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 11,      Issue - 4,     Year - 2023


ABSTRACT:
मानवीय अर्थव्यवस्थाओें में कृषि का विशेष महत्व है। जीविकोपार्जन की प्रक्रिया में आखेट, पशुपालन एवं वन्य संसाधनों पर दीर्घकाल तक निर्भरता के उपरान्त मनुष्य धीरे-धीरे कृषि विधियों को अपनाने लगा और कालान्तर में वह इन्हीं के द्वारा जीविकोपार्जन करने लगा। आज मानव के भरण-पोषण में कृषि का योगदान प्रमुख है। इसी पर आधारित अन्य व्यवसाय भी मानवीय क्रियाओं से जुड़कर उसकी आधुनिक सभ्यता के प्रतीक बन गये हैं। कृषि उपयोग के सिद्धान्त इस संदर्भ पर निर्भर है कि भूमि के निश्चित क्षेत्र से किन विधियों द्वारा अधिक से अधिक उत्पादन प्राप्त किया जाय और कृषि कार्य में प्रयुक्त लागत अपेक्षाकृत निम्नतम हो जिससे उत्पादन में अधिकतम लाभ सुलभ हो सके। भूमि उपयोग किसी भी क्षेत्र विशेष में विभिन्न मदों में भूमि के उपयोग की मात्रा और उसके अधिकतम उपयोग का विश्लेषण करता है। किसी भी क्षेत्र के समावेशी विकास हेतु नियोजत भूमि उपयोग की आवश्यकता होती है। प्रस्तुत शोध पत्र में अध्ययन क्षेत्र अमेठी जनपद (उ.प्र.) में भूमि उपयोग प्रतिरूप का अध्ययन और नियोजित भूमि उपयोग के सुझावकारी विश्लेषित उपायों पर शोधपरक अध्ययन किया गया है। शोध हेतु प्राथमिक ऑकड़ों का संग्रह प्रश्नावली तथा साक्षात्कार विधि से तथा द्वितीयक स्रोत के आँकड़ों का संग्रह सरकारी गैर-सरकारी संस्थाओं से प्राप्त आँकड़ों के द्वारा किया गया है। शोध समावेशी और उपयोगी हो सके, इसलिए पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित लेखों और जन प्रतिक्रिया को विशेष महत्व दिया गया है। प्रस्तुत शोध पत्र में लेखों और जन प्रतिक्रिया को विशेष महत्व दिया गया है। प्रस्तुत शोध पत्र अध्ययन क्षेत्र जनपद अमेठी के समग्र समावेशी विकास हेतु, योजना और नीतियों के निर्माण में सहयोगी सिद्ध होगा।


Cite this article:
हिमांशु मिश्रा, इन्दू मिश्रा. अमेठी जनपद (उ.प्र.) में भूमि उपयोग प्रतिरूप का एक भौगोलिक अध्ययन. International Journal of Reviews and Research in Social Sciences. 2023; 11(4):260-4. doi: 10.52711/2454-2687.2023.00044

Cite(Electronic):
हिमांशु मिश्रा, इन्दू मिश्रा. अमेठी जनपद (उ.प्र.) में भूमि उपयोग प्रतिरूप का एक भौगोलिक अध्ययन. International Journal of Reviews and Research in Social Sciences. 2023; 11(4):260-4. doi: 10.52711/2454-2687.2023.00044   Available on: https://ijrrssonline.in/AbstractView.aspx?PID=2023-11-4-10


सन्दर्भ सूची:-
1-  Abidum, J.O: (1983) Accelerated Urbanization and the Problem of Urban Peripheries, the case of Nigeria, India Journal of Regional Science. P. 3-8
2    Northan, R.M. (1975): Urban Geography, John Willey & Sons, New York. P. 12-13
3.   District census hand book, Amethi, 2022 P. 7-8
4.   Mishra, H.N. (1987) Rural Geography, Heritage Publishers, New Delhi. P. 17-21
5-  मौर्या, एस.डी, 2005ः अधिवास भूगोल, शारदा पुस्तक भवन, इलाहाबाद (प्रयागराज) पेज नं. 70-73
6. मौर्या, एस.डी, 2015ः जनसंख्या भूगोल, शारदा पुस्तक भवन, इलाहाबाद (प्रयागराज) पेज नं. 10-13
7. गौतम, अलका, 2014ः संसाधन एवं पर्यावरण, शारदा  पुस्तक भवन, इलाहाबाद (प्रयागराज) पेज नं. 85-90
8. हुसैन, माजिद (2004)ः कृषि भूगोल, रावत पब्लिकेशिंग हाउस, नई दिल्ली। पेज नं. 3-9
9. खत्री, हरीश कुमार (2020)ः कृषि भूगोल, कैलाश पुस्तक भवन सदन भोपाल, पेज नं. 13-15
10. चान्दना, आर.सी. (2012)ः जनसंख्या भूगोल, कल्याणी पब्लिशर्स, नई दिल्ली, पेज न. 18-95
11. तिवारी, आर.सी., सिंह, बी.एन.ः कृषि भूगोल, प्रवालिका पुस्तक भवन, प्रयागराज पेज नं. 88-103

Recomonded Articles:

Author(s): महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): बी.एन. पटेल, उमेश कुमार मिश्र

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): अनुसुइया बघेल

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): श्याम किषोर वर्मा प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): कुबेर सिह गुरुपंच, राजु चन्द्राकर

DOI:         Access: Closed Access Read More

Author(s): आर. प्रसाद, रजिन्दर कौर

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags