Author(s): श्याम किषोर वर्मा प्रमोद कुमार तिवारी

Email(s): shyammic@gmail.com , pktiwari61@gmail.com

DOI: Not Available

Address: श्याम किषोर वर्मा1 डाॅक्टर प्रमोद कुमार तिवारी2
1षोध छात्र, (जे.आर.एफ.), भूगोल विभाग, नागरिक पी.जी काॅलेज, जंघई, जौनपुर, उत्तर प्रदेष.
2प्राचार्य एवं विभागाध्यक्ष भूगोल विभाग, नागरिक पी.जी. काॅलेज, जंघई, जौनपुर, उत्तर प्रदेष.
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 9,      Issue - 1,     Year - 2021


ABSTRACT:
किसी भी राष्ट्र के विकास की दिषा उसकी प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता द्वारा सुनिष्चित होती है। इन प्राकृतिक संसाधनों में भूमि सबसे महत्वपूर्ण संसाधन है। भूमि ही अन्य सभी संसाधनों का आधार है अर्थात् इसी भूमि पर ही अन्य संसाधनों का निर्माण हुआ है। भूमि का उपयोग भिन्न-भिन्न प्रयोजनों हेतु भिन्न-भिन्न संदर्भों में किया जाता है। साधारण मानव के लिए भूमि उसके आवास उपलब्ध कराने के संदर्भ में प्रयुक्त की जाती है। वहीं यदि आर्थिक उपयोग के संदर्भ की बात करें तो भूमि का प्राथमिक उपयोग कृषि के लिए एवं उसके पश्चात् अन्य क्रिया-कलापों के संदर्भ में किया जाता है उदाहरणस्वरूप औद्योगिक इकाईयों की स्थापना, परिवहन अवसंरचना इत्यादि के निर्माण में भूमि का उपयोग किया जाता है। भूमि पर निरंतर जनसंख्या का दबाव बढ़ता जा रहा है, जिससे भूमि उपयोग प्रारूप में परिवर्तन परिलक्षित होने लगा है। प्रस्तुत अध्ययन में भूमि उपयोग के विभिन्न पक्षों को ध्यान में रखकर उसके समुचित उपयोग द्वारा सतत् ग्रामीण विकास की संकल्पना को दिषा प्रदान करने पर ज़ोर दिया गया है, जिसके लिए द्वितीयक एवं तृतीयक स्रोतों से आँकड़ों को एकत्रित किया गया है, साथ ही व्यक्तिगत सर्वेक्षण के अनुभवों के आधार पर अध्ययन क्षेत्र जनपद गोण्डा में भूमि उपयोग प्रतिरूप का तुलनात्मक अध्ययन किया गया है, जिससे नियोजित भूमि उपयोग द्वारा क्षेत्र का ग्रामीण विकास संभव हो सके।


Cite this article:
श्याम किषोर वर्मा प्रमोद कुमार तिवारी. जनपद गोण्डा उ.प्र. के भूमि उपयोग प्रतिरूप का तुलनात्मक अध्ययन. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2021; 9(1):37-40.

Cite(Electronic):
श्याम किषोर वर्मा प्रमोद कुमार तिवारी. जनपद गोण्डा उ.प्र. के भूमि उपयोग प्रतिरूप का तुलनात्मक अध्ययन. Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2021; 9(1):37-40.   Available on: https://ijrrssonline.in/AbstractView.aspx?PID=2021-9-1-6


संदर्भ ग्रंथ-सूची

1. खत्री, हरीश कुमार, (2020) “कृषि भूगोलकैलाश पुस्तक सदन, भोपाल।

2.     चान्दना, आर.सी.(2012) “जनसंख्या भूगोलकल्याणी पब्लिशर्स, नई दिल्ली।

3.     तिवारी आर.सी. एवं सिंह बी.एन. (2014), “कृषि भूगोलप्रवालिका पब्लिकेशन, प्रयागराज।

4.     सिंह, कातर (1998), “ग्रामीण विकास: सिद्धांत, नीतियाँ एवं प्रबंधन“, सेग पब्लिकेशन, नई दिल्ली।

5.     हुसैन, माजिद, (2014)“कृषि भूगोलरावत पब्लिकेशन, नई दिल्ली।

6.     कुरूक्षेत्रएवंयोजनामासिक पत्रिका, प्रकाशन विभाग, भारत सरकार, नई दिल्ली।

7.     जनगणना रिपोर्ट, 2011, भारत सरकार।

8.     जिला सांख्यिकी पत्रिका, जनपद गोण्डा।

9. समाजार्थिक-समीक्षा 2020, कार्यालय अर्थ एवं संख्याधिकारी, जनपद गोण्डा।website - www.rural.nic.in

10. Tiwari, P.K., 2019. NGJI-BHU, A Review of Rural development and Poverty Amelioration Programes in Niyamatabad Block, District Chanduali. P-2

11. Chaurasiya, Maheep, (2020), Janpad Jaunpur me Bhumi Upyog Pratirup ka ek bhaugolik Adhyayan, Published research paper in IJRRSS, Volume-8, Issue-3

Recomonded Articles:

Author(s): बी.एन. पटेल, उमेश कुमार मिश्र

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): अनुसुइया बघेल, गिरधर साहू

DOI: 10.5958/2454-2687.2018.00016.3         Access: Open Access Read More

Author(s): महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): किशोर कुमार अग्रवाल, राजेशवरी

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags