Author(s): अनुसुइया बघेल

Email(s): Email ID Not Available

DOI: Not Available

Address: डाॅ. (श्रीमती) अनुसुइया बघेल
प्रोफेसर, भूगोल अध्ययनशाला, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर
*Corresponding Author

Published In:   Volume - 5,      Issue - 3,     Year - 2017


ABSTRACT:
प्रस्तुत अध्ययन के उद्देश्य छत्तीसगढ़ में सामाजिक - आर्थिक कल्याण में स्थानिक भिन्नता की व्याख्या है। अध्ययन हेतु आर्थिक सर्वेक्षण, 2013-14 छत्तीसगढ़ से आंकड़े एकत्र किए गए हैं। सामाजिक - आर्थिक कल्याण की मात्रा को ज्ञात करने के लिए 9 कारक - पेयजल की सुविधा की उपलब्धता, प्रकाश के स्रोत, शौचालय की उपलब्धता, स्नान घर की उपलब्धता, जल निकास की सुविधा, रसोई घर की उपलब्धता, खाना बनाने के लिए प्रयुक्त ईंधन की प्रकार, बैकिंग सेवा का लाभ, परिवारों के पास उपलब्ध परिसम्पत्ति का चयन किया गया है। छत्तीसगढ़ सभी 27 जिलों में इन 9 कारकों को पी.एल. नाॅक्स की विधि के अनुसार सूचकांक में परिवर्तित किया गया है । अधिक सूचकांक कम कल्याण और कम सूचकांक अधिक कल्याण को व्यक्त करता है। छत्तीसगढ़ में यह सूचकांक सबसे कम दुर्ग जिले में 8.4 और सबसे अधिक बीजापुर जिले में 92 है जो सामाजिक आर्थिक कल्याण की मात्रा दुर्ग जिले में सर्वाधिक तथा बीजापुर जिले में सबसे कम को व्यक्त करता है। छत्तीसगढ़ के पांच जिलो- दुर्ग, रायपुर, राजनांदगाँव, धमतरी एवं बिलासपुर में सामाजिक- आर्थिक कल्याण की मात्रा अधिक है। जहां यह सूचकांक 30 से कम है। इसके विपरीत प्रदेश के 7 जिलों - गरियाबंद, बलरामपुर, जशपुर, मुंगेली, नारायणपुर, सुकमा, एवं बीजापुर जिलों में सामाजिक- आर्थिक कल्याण की मात्रा बहुत ही कम है। जहां यह सूचकांक 70 से अधिक है। वास्तव में सामाजिक - आर्थिक कल्याण की मात्रा को भौतिक कारक, जनसंख्या का घनत्व, मिट्टी की उर्वरता, निराफसली क्षेत्र, यातायात के साधन प्रभावित करतीें है।


Cite this article:
अनुसुइया बघेल. छत्तीसगढ़ में सामाजिक - आर्थिक कल्याण का स्थानिक प्रतिरूप (Spatial Pattern of Socio-economic Well-Being in Chhattisgarh) Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2017; 5(3): 171-180 .

Cite(Electronic):
अनुसुइया बघेल. छत्तीसगढ़ में सामाजिक - आर्थिक कल्याण का स्थानिक प्रतिरूप (Spatial Pattern of Socio-economic Well-Being in Chhattisgarh) Int. J. Rev. and Res. Social Sci. 2017; 5(3): 171-180 .   Available on: https://ijrrssonline.in/AbstractView.aspx?PID=2017-5-3-6


REFERENCES:
1        Adelman,I. and  Morris, C.T.(1965) : “Factor Analysis of the Inter-relationship bêtween Social and Political Variables and per Capita Gross National Product”, Quaterly Journal of Economics, 79, 555-78.
2        Berry, B.J.L.(1960): An Inductive Approach to the Regionalization of Economic Development, N. Ginsburg,(ed.), Essays on Geography and Economic  Development, Research Paper 62, Dept. of Geography, University of Chicago.
3        Coates, B.E. et al. (1977): Geography and inequality, University Press, Oxford.
4        Dube, R.S. (1982):  “Social Well-being in Madhya Pradesh”, Trans. Inst. of Indian Geographers, Viol. 4, No. 2, (July), pp. 169-174.
5        Fakhruddin (1991): Qulity of Urban Life, Rawat Publication, Jaipur.
6        Gosal, G.S. and Gopal Krishna (1984):  Regional Disparities in Levels of Socio-economic Development in Punjab, Vishal Publications, Kurukshetra.
7        Henderson, J.M. and R.E. Quardt (1958): Microeconomics Theory : A Mathmatical Approch, McGraw  Hill, New York.
8        King, M.A. (1974) : “Economic Growth and Social Development- A Statistical Investigation”, Review of Income and Wealth, Series 20, (3), 251-72.
9        Koelle.H.H. (1974): “An Experimental Study on the Determination of a Definition for the Quality of Life”, Regional Studies, 8, I-Io.
10      Kulkarni,K.M.(1990): Geographical Patterns of Social Well-being, Concept Publishing Company, New Delhi.
11      Mishan (1964) : Walfare Economics : Five Intriductutory Essays, Random House, New York.
12      Nath, S.K. (1973):  A Perspective of Walfare Economics, Routledge and Kegan Paul, London.
13      Paul L.Knox(1975) : Social  well-being : A Spacial Perspective, Oxford University Prtess, Ely House, London.
14      Smith D.M. and Gray, R.J. (1972): Social Indicators for Tampa, Florida. Urban Studies Bureau, University of Florida, Gainesville(mimeo).
15      Smith, David, M. (1977): Human Geography : A Walfare Approach, ernold Edward, London.
16      United Nations Research Institute for Social Development (1970): Studies in the Measurement of Levels of Living and Welfare, Report No. UNRISD/70/C.26 U.N.R.I.S.D., Geneva.

Recomonded Articles:

Author(s): देवेन्द्र कुमार, अब्दुल सत्तार, भारती कुलदीप

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): महीप चैरसिया, प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): गैंद दास मानिकपुरी , अब्दुल सत्तार, देवेन्द्र कुमार

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): श्याम किषोर वर्मा प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): निहारिका सोनकर, प्रमोद कुमार तिवारी

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): K.P. Kurrey, Vrinda. Sengupta

DOI:         Access: Open Access Read More

Author(s): रोहित चैरसिया, महीप चैरसिया

DOI:         Access: Open Access Read More

International Journal of Reviews and Research in Social Sciences (IJRRSS) is an international, peer-reviewed journal, correspondence in....... Read more >>>

RNI:                      
DOI:  

Popular Articles


Recent Articles




Tags